जड़ कोनो बस्तु के वेग मे परिबरतन के रोकाऊ के कहल जाला। हेकरा मे बस्तु के वेग आ गति के दिसा मे बदलाव आवेला। हेकरा असहुँ कहल जा सकेला की जब कोनो बस्तु प बर ना लागे तऽ ऊ एक्के वेग से सोझा जाए के परयतन करेला।

आइजक न्युटन आपन गति के पहिलका नियम मे जड़ के परिभासा दिहले बाड़न। कोनो बस्तु आपन स्तिथी के तबले बना के राखेला जबले ओहप कोनो बर ना लगावल जाला। इहे आपन स्तिथी बना के राखे के लच्छन के जड़ कहल जाला।