मुख्य मेनू खोलीं

ब्रह्मगुप्त (जनम लगभग 598, निधन 665 के बाद) एक ठो भारतीय गणितज्ञ आ खगोलशास्त्री (ज्योतिषी) रहलें।[2]

ब्रह्मगुप्त
जनम 598
निधन 665 के बाद
निवास भीनमाल, वर्तमान में राजस्थान, भारत में[1] and Ujjain, present day Madhya Pradesh, India
काम के क्षेत्र गणित, खगोलशास्त्र
Known for जीरो, आधुनिक नंबर सिस्टम

उनुके दू गो ग्रंथ: ब्रह्मस्फुटसिद्धान्त - एगो सिद्धांत के किताब, आ खंडखाद्यक एगो आसान प्रयोग लायक बात वाला किताब बाटे।

ब्रह्मगुप्त के ऊपर टीका लिखे वाला बिद्वान लोग के मत के अनुसार ऊ वर्तमान राजस्थान के भीनमाल नाँव के जगह के निवासी रहलें।

ब्रह्मगुप्त पहिला अइसन बेकति रहलें जे सुन्ना (जीरो) के साथ गणित (गुणा-भाग) के नियम बतवलें।


संदर्भसंपादन

  1. Sachau, Edward C. (2013), Alberuni's India, Routledge, प. 156, ISBN 978-1-136-38357-1, Brahma-siddhānta, so called from Brahman, composed by Brahmagupta, the son of Jishnu, from the town of Bhillamāla between Multān and Anhilwāra, 16 yojana from the latter place (?)
  2. गुणाकर मुले (1970). प्राचीन भारत के महान वैज्ञानिक (Hindi में). राजकमल प्रकाशन. पप. 68–. ISBN 978-81-267-1715-6.