"बुनी" की अवतरण में अंतर

कौनों संपादन सारांश नइखे
बरखा पृथ्वी की [[जल-चक्र]] क एगो बहुत महत्व वाला घटना आ हिस्सा हवे काहें से की जमीन की ऊपर [[मीठा पानी]] क सबसे ढेर पुर्ती एही बरखे से होले। खेती खातिर बरखा क महत्व बहुत बा काहें से कि सिंचनी क ई प्राकृतिक साधन हवे जेवन प्रकृति हमनी के फिरी में दिहले बा। भारत जइसन देस में खेतीबारी में पैदावार बहुत ढेर मात्रा में बरखा पर निर्भर होला।
 
बरखा क विश्व में वितरण सब जगह एक्के नियर ना मिलेला। कहीं बहुत कम बरखा होले त कहीं बहत ढेर। एही तरे विश्व में कुछ जगहन पर साल भर रोज बरखा होला, कुच्छ जगह गर्मी में बरखा होला, कुछ जगह जाड़ा की सीजन में, आ कुछ जगह, जइसे कि भारत में, बरसात क अलग सीजने होला। भारत की [[आसाममेघालय]] राज्य में [[चेरापूँजी]] में विश्व क सबसे ढेर बरखा होला।
 
==उत्पत्ती==
65,521

संपादन सभ