"प्रतिभा पाटिल" की अवतरण में अंतर

छो
clean up using AWB
(श्रेणी जोड़ी)
छो (clean up using AWB)
प्रतिभा देवीसिंह पाटिलमुक्त ज्ञानकोष विकिपीडिया सेयहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
प्रतिभा देवीसिंह पाटिल
 
----
 
--------------------------------------------------------------------------------
 
भारत के राष्ट्रपति
उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी
प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह
पूर्ववर्ती अब्दुल कलाम
 
----
--------------------------------------------------------------------------------
 
राजस्थान की राज्यपाल
८ नवंबर २००४ – २३ जुलाई २००७
पूर्वाधिकारी मदन लाल खुराना
उत्तराधिकारी अख्लाक उर रहमान किदवई
 
----
--------------------------------------------------------------------------------
जन्म दिसंबर एक्स्प्रेशन गलती: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "�", १९३४ (१९३४-12-१९) (उम्र 77)
राजनैतिक पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
जीवनसंगी देवीसिंह रणसिंह शेखावत
धर्म हिन्दू
 
प्रतिभा देवीसिंह पाटिल (उपनाम:प्रतिभा ताई) (जन्म १९ दिसंबर १९३४) स्वतंत्र भारत के ६० साल के इतिहास में पहली महिला राष्ट्रपति हैं। [1] राष्ट्रपति चुनाव में प्रतिभा पाटिल ने अपने प्रतिद्वंदी भैरोंसिंह शेखावत को तीन लाख से ज़्यादा मतों से हराया। प्रतिभा पाटिल को ६,३८,११६ मूल्य के मत मिले, जबकि भैरोंसिंह शेखावत को ३,३१,३०६ मत मिले। [2][3][4][5] इस तरह वे भारत की १३वीं राष्ट्रपति चुन ली गई हैं। उन्होंने २५ जुलाई २००७ को संसद के सेंट्रल हॉल में राष्ट्रपति पद की शपथ ली।
4 प्रमुख विवाद
5 संदर्भ
 
[संपादित करें] प्रारंभिक जीवनमहाराष्ट्र के जलगांव जिले में जन्मी प्रतिभा के पिता का नाम श्री नारायण राव था। साड़ी और बड़ी सी बिंदी लगाने वाली यह साधारण पहनावे वाली महिला राजनीति में आने से पहले सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में कार्य कर रही थी। उन्होंने जलगाँव के मूलजी जैठा कालेज से स्नातकोत्तर (एम ए) और मुंबई के गवर्नमेंट लॉ कालेज (मुंबई विश्वविद्यालय से संबद्ध) से कानून की पढा़ई की। वे टेबल टेनिस की अच्छी खिलाड़ी थीं तथा उन्होंने कई अन्तर्विद्यालयी प्रतियोगिताओं में विजय प्राप्त की।[6] १९६२ में वे एम जे कॉलेज में कॉलेज क्वीन चुनी गयीं।[7] उसी वर्ष उन्होंने एदलाबाद क्षेत्र से विधानसभा (एसेंबली) के चुनाव में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के टिकट पर विजय प्राप्त की। उनका विवाह शिक्षाविद देवीसिंह रणसिंह शेखावत के साथ ७ जुलाई, १९६५ को हुआ।[8] उनकी एक पुत्री तथा एक पुत्र है। श्री शेखावत के पूर्वज राजस्थान के सीकर जिले के थे और बाद में जलगांव महाराष्ट्र जाकर बस गये थे।
 
[संपादित करें] प्रमुख विवादप्रतिभा पाटिल के साथ सबसे पहला विवाद तब जु़डा जब उन्होंने राजस्थान की एक सभा में कहा कि राजस्थान की महिलाओं को मुगलों से बचाने के लिए परदा प्रथा आरंभ हुई। इतिहासकारों ने कहा कि राष्ट्रपति पद के लिए दावेदार प्रतिभा का इतिहास ज्ञान शून्य है। जबकि मुस्लिम लीग जैसे दलों ने भी इस बयान का विरोध किया। समाजवादी पार्टी ने कहा कि प्रतिभा पाटिल मुसलिम विरोधी विचारधारा रखती हैं। प्रतिभा दूसरे विवाद में तब घिरी जब उन्होंने एक धार्मिक संगठन की सभा में अपने गुरू की आत्मा के साथ कथित संवाद की बात कही। प्रतिभा के पति देवी सिंह शेखावत पर स्कूली शिक्षक को आत्महत्या करने के लिए मजबूर करने का आरोप है। उन पर हत्यारोपी अपने भाई को बचाने के लिए अपनी राजनीतिक पहुंच का पूरा पूरा इस्तेमाल करने का भी आरोप है। उन पर चीनी मिल कर्ज में घोटाले, इंजीनियरिंग कालेज फंड में घपले और उनके परिवार पर भूखंड हड़पने के संगीन आरोप हैं।[11]
 
 
==संदर्भ==
63,686

संपादन सभ