"महात्मा गाँधी" की अवतरण में अंतर

बिस्तार
(बिस्तार)
(बिस्तार)
नवंबर 1887 में 18-बरिस क गांधी अहमदाबाद के हाई इस्कूल से ग्रेजुएट भइलेन आ 1988 में भावनगर राज के समालदास कालेज में ऊँच शिक्षा खाती दाखिला लिहलें बाकी फिर छोड़ के वापिस पोरबंदर अपना घरे लवट गइलेन।
 
=== बैरिस्टरी ===
गांधी कौनों बहुत धनी परिवार से ना रहलें आ कालेज के पढ़ाई छोड़ चुकल रहलें। एही समय परिवार के परिचित आ पुजारी मावजी दवे जोशीजी इनका के सलाह दिहलें की लंदन जा के वकालत पढ़ें। जुलाई 1888 में कस्तूरबा आपन पहिला जियत बेटा के जनम दिहली आ गांधी के माई एह बारे में बहुत आश्वस्त ना रहली कि गांधी आपन परिवार के एह समय छोड़ के बिदेस जाँसु। गांधी अपना माई आ मेहरारू के सोझा किरिया खइलेन की ऊ बिदेस में जा के भी मांस ना खइहें, शराब आ औरतन से लम्मा रहिहें। गांधी के भाई लक्ष्मीदास, जे खुदे वकील बन गइल रहलें इनका के बढ़ावा दिहलें कि लंदन जा के पढ़े के चाहीं।
 
अठारह बरिस के उमिर में गांधी राजकोट से बंबई (अब मुंबई) आ गइलेन आ इहाँ मोधी बनिया लोग के साथे रहलें जबले की इंग्लैंड जाए वाला जहाज के जात्रा के इंतजाम ना भ गइल। 4 सितंबर 1888 के गांधी बंबई से लंदन खाती जहाज से चल दिहलें, इनके भाई इनका के चाहुंपावे आइल रहलें।
 
लंदन में गांधी वकालत आ बिधिशास्त्र (ज्यूरिसप्रूडेंस) के पढ़ाई कइलेन। लजाधुर होखे के बावजूद एगो पब्लिक ग्रुप से जुड़लें आ भाषण देवे के सीख्लें। शाकाहारी खाना के खोज में इनके परिचय एगो शाकाहरी रेस्टोरेंट से भइल जहाँ से हेनरी साल्ट के लेखन के बारे में जानकारी मिलल आ ई उनके लेखन से परभावित हो के शाकाहारी सोसाइटी में सामिल हो गइलेन। बाद में एह सोसाइटी के एक्सीक्यूटिव कमिटी में भी चुनल गइलें। यही जे इनके परिचय थियोसोफिकल सोसाइटी से भइल जे 1875 में वैश्विक (युनिवर्सल) भाईचारा खाती अस्थापित भइल रहल।बौद्ध आ हिंदू साहित्य के अध्ययन भी ई सोसाइटी करे। एहीजे गांधी गीता के पाठ करे से जुड़लें।
 
1891 के जून में, 22 बरिस के उमिर में, गांधी के "बार के काल आइल" (बैरिस्टर के रूप में कौनों पार्टी खाती वकालत क सके के दर्जा मिलल)। एकरे बाद इ भारत लवटलें। इहाँ आवे पर मालुम भइल महतारी के निधन हो चुकल बा आ परिवार के लोग ई खबर छिपा के रखले रहल। गांधी बंबई में वकालत सुरू कइलेन बाकी एह काम में बिफल रहलें काहें कि मानसिक स्थिति के कारन गवाह के क्रास-क्वेशचन करे में इनके दिक्कत भइल। लवट की राजकोट चल गइलेन आ उहाँ पेटीशन ड्राफ्ट करे के काम करे लागलें। एकरे बाद काठियावाड़ के एगो मुसलमान बैपारी इनसे संपर्क कइलेन आ दक्खिन अफिरका में जाये खाती पुछलें जहाँ उनके केहू भाई बैपारी रहलें आ उनके अइसन बैरिस्टर के जरूरत रहल जे काठियावाड़ के परंपरा से होखे।
गांधी एकरे खातिर तइयार भ गइलेन कि ई ब्रिटिश उपनिवेश नटाल में कम से कम एक साल खातिर होखी।
 
===भारत के आजादी के संघर्ष में (१९१५–१९४७)===
 
{{खाली खंड}}
 
{{clear}}
 
64,063

संपादन सभ