हवाई फोटोग्राफी

हवा में मौजूद प्लेटफार्म से जमीन के फोटो खींचल

हवाई फोटोग्राफी (अंगरेजी: aerial photography) में कौनों हवाई जहाज चाहे दुसरे अइसने कौनों हवा में उड़े वाला चीज से नीचे के जमीन के फोटो खींचल जाला। अइसन उड़े वाला प्लेटफार्म कौनों हवाई जहाज (एयरक्राफ्ट) हो सके ला, हेलीकाप्टर, मनुष्य बिना हवाई बिमान (UAV) चाहे ड्रोन, गुब्बारा, राकेट, चाहे पैराशूट हो सके ला। इतिहास में कबूतर आ पतंगा तक पर कैमरा लगा के नीचे के जमीन के फोटो खींचे के उदाहरण मिले ला। कौनों गाड़ी पर किरान चाहे ऊंचाई ले चहुँपे वाला कौनों खम्हा नियर जोगाड़ लगा के ओहूजे से खींचल फोटो हवाई फोटो कहा सके ला। फोटो खींचे वाला कैमरा के चलावे के काम रिमोट से कइल जा सके ला चाहे ऑटोमेटिक सेट हो सके ला; हवाई जहाज से केहू आदमियो हाथ में कैमरा पकड़ के हवाई फोटो घींच सके ला।

हवाई फोटो, शहर के सीन, बीचा में ढंढार भइल इमारत के मलबा देखलात बाटे
अमेरिका में 11 सितंबर 2001 के हमला के बाद वल्ड ट्रेड सेंटर के खँडहर बन चुकल जगह के लिहल एगो हवाई फोटो। ई नोवा मिशन के सेसना जेट बिमान से करीब 1005 मीटर के ऊँचाई से घींचल फोटो हवे।

हवाई फोटोग्राफी के "हवा-से-हवा में फोटोग्राफी" से अलगा बूझल जाए के चाहीं जेह में एगो हवाई जहाज दुसरे जहाज के पोंकिया के ओनाहना के तस्वीर घींचे लें।

हवाई फोटोग्राफी एगो बड़हन अध्ययन के क्षेत्र रिमोट सेंसिंग के हिस्सा हवे। ई एह बिधा के के एगो बहुत महत्व वाला अंग रहल हवे आ अब्बो बाटे हालाँकि, उपग्रह से लिहल तस्वीर, जिनहन के सैटलाइट इमेज कहल जाला, के आ गइले के बाद हवाई फोटो के महत्त्व आ इस्तेमाल कम भइल बाटे। हवाई फोटो के पढ़े आ ओकरा से जानकारी निकाले के बिधा के हवाई फोटो इंटरप्रेटेशन कहल जाला। एह फोटो सभ से नापजोख करे आ नक्शा बनावे के कला आ बिज्ञान के फोटोग्रामेट्री कहल जाला। एकदमसे सटीक परीभाषा बतावल जाय तब, हवाई फोटो सभ से कौनों किसिम के बिस्वसनीय आ सटीक क्वांटिटेटिव जानकारी (नाप-जोख चाहे मापन) हासिल करे के कला चाहे बिज्ञान फोटोग्रामेट्री हवे।[1]

हवाई फोटोग्राफी के इस्तेमाल लड़ाई में चाहे दुश्मन देस के इलाका के जासूसी करे में, कौनों इलाका के नक्शा बनावे में, खेती आ फसल सभ के जायजा लेवे में, शहर के प्लानिंग खाती जानकारी जुटावे में, आ अउरी बिबिध किसिम के बहुत सारा काम सभ में इस्तेमाल हो रहल बाटे।

इहो देखल जायसंपादन

संदर्भसंपादन

  1. Paine, David P.; Kiser, James D. (14 फरवरी 2012). Aerial Photography and Image Interpretation (in English) (2 ed.). John Wiley & Sons. p. 1. ISBN 978-0-470-87938-2.

बाहरी कड़ीसंपादन

अउरी पढ़े खातिरसंपादन