नेपाल के संविधान २०१५ (नेपाली:नेपालको संविधान २०७२) (२०७२ विक्रम संवत के साल ह ग्रेगोरियन वर्ष २०१५ खातिर) नेपाल के हाल में बन के लागू भइल संविधान ह। ई संविधान नेपाल के संविधान सभा द्वारा बनावल गइल ह। ई जनता के प्रतिनिधि द्वारा पारित भइल पहिलका आ नेपाल के सातवां संविधान ह । संविधान सभा के दुसरका निर्वाचन से निर्वाचित संविधान सभा द्वारा २०१५ के सितम्बर २० तारीख के ई संविधान २ तिहाई से अधिक मत से पारित भइल ह। साथे साथ नेपाल के इतिहास में जनता के बीच जाकर के मसौदा तैयार कर बनल ई संविधान नेपाल के पहिलका आ दुनिया के सबसे पछिलका संविधान ह। तराई भाग के कुछ जिला सभ में कुछ लोगन के द्वारा एकरा विरुद्ध में आवाज उठावल गइल एकरा बावजूद नब्बे प्रतिशत से अधिक के बहुमत से राष्ट्रपति द्वारा एकर घोषणा भइल। ।[1] ई संविधान २०१५, सितम्बर २१ तारीख के संविधान सभा के बहुमत सदस्यन के द्वारा हस्ताक्षर भइला के बाद सभाध्यक्ष द्वारा प्रमाणित करल गइल रहल। संविधान २०१५, सितम्बर २३ तारीख के नेपाल के राष्ट्रपति रामवरण यादव के द्वारा नेपाल के संविधान २०१५ पर हस्ताक्षर करते ही संविधान जारी हो गइल ई घोषणा के साथ लागू हो गइल। बी बी सी नेपाली सेवा के अनुसार:[2] ई संविधान में ३५ भाग ३०८ गो धारा आ ९ गो अनुसूची सभ बाड़ें। ई संविधान नेपाल के पहिलका हाली धर्म निरपेक्ष राज्य घोषित कइले बा।

नेपाल के प्रदेश
Provinces of Nepal 2015.png
श्रेणी प्रदेश
लोकेशन संघीय लोकतांत्रिक गणराज्य नेपाल
निर्माण २० सितंबर २०१५
संख्या
सरकार गवर्नर
मुख्यमंत्री
उपबिभाग जिला

संदर्भसंपादन

  1. कान्तिपुर दैनिक "पारित भयो नेपालको संविधान". Retrieved 30 सितंबर 2015.सेतोपाटी अनलाइन "नेपालको संविधान दुई तिहाइ बहुमतद्वारा पारित". Retrieved 30 सितंबर 2015.अन्नपूर्ण पोष्ट दैनिक "नेपालको नयाँ संविधान अत्यधिक बहुमतले पारित". Retrieved 30 सितंबर 2015.
  2. "राष्ट्रपतिद्वारा संविधान जारी भएको घोषणा". Retrieved 20 सितंबर 2015.