पहाड़ी कटक (अंगरेजी: mountain ridge) चाहे परबत कटक कौनों लंबाई में बिस्तार लिहले परबत भा पहाड़ के दुनों ओर के ढालन के बीचा के सबसे ऊँच हिस्सा होला जे पहाड़ी चोटी के नियर ना बलुक लंबाई में बिस्तार लिहले नोकीला हिस्सा होखे ला। भूबिज्ञान आ भूआकृतिबिज्ञान में ई ढाल थलरूप के कटेगरी में रखल जाला। एकर सभसे ऊपरी हिस्सा हमेशा कोरदार होखे ई जरूरी ना बाटे। भूगोल में, कौनों आमतौर पर सपाट मैदान भा पठार के बीचा में ऊँचाई लिहले लमहर थलरूप के भी कटक कहल जाला।

जापान में एगो पर्वतीय कटक

पहाड़ी कटक के कई गो एक लगातार लंबाई में बिस्तार लिहले ढाँचा सब के समेकित रूप से परबतमाला (mountain chain) कहल जाला। इनहन के बीचा से हो के आवाजाही लायक रस्ता वाला कुछ कम ऊँच जगह भा गैप भी हो सके लें जिनहन के भूगोल में दर्रा कहल जाला। आमतौर पर ई पहाड़ी कटक सभ दुनों ओर के इलाका के बीचा में आवाजाही के कठिन बनावे लें आ बाधा भा बैरियर के काम करे लें।

पहाड़ी कटक सभ के एगो अउरी महत्व ई होला की ई प्राकृतिक नदी थाला सभ के सीमा भा जलबिभाजक के काम करे लें। मतलब की इनहन के दुनों ढलान के ओर अलग-अलग नदिन भा जलधारा सभ के बेसिन होला।

इहो देखल जायसंपादन

संदर्भसंपादन