मुख्य मेनू खोलीं
यग्य के दौरान हवन करत पंडित

यज्ञ, जग्य भा जग्गि, हिंदू धर्म में एगो धार्मिक अनुष्ठान हवे। यज्ञ के शाब्दिक अरथ 'अर्पण कइल, पूजन कइल आ समादर कइल' होला। आम तौर पर यज्ञ में देवता लोग के बिबिध प्रकार से पूजा कइल जाला, ओहके बाद अग्नि में बिबिध प्रकार के चीज मंत्र पढ़-पढ़ के हवन कइल जाला। मानल जाला कि ई अर्पित सामग्री, अग्नि देव द्वारा ओह सारा देव लोग ले पहुँचावल जाई।

यज्ञ, ब्याक्तिगत रूप से अकेले भी अग्नि के सोझा बइठ के कइल जा सके ला आ भारी ढंढकमंडल के साथ बिसाल आयोजन के रूप में भी हो सके ला जेह में हजारन लोग सामिल होखे।

संदर्भसंपादन