"सतुआन" की अवतरण में अंतर

सुधार कइल गइल
छोNo edit summary
टैग कुल: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
(सुधार कइल गइल)
'''सतुआन''' भोजपुरी संस्कृति के काल बोधक पर्व ह। [[हिन्दू पतरा]] में सौर मास के हिसाब से सुरूज जहिआ [[कर्कभूमध्य रेखा]] (बिसुवत रेखा) से दखिनउत्तर के ओर जाले तहिये ई पर्व मनावल जाला। एहि दिन से खरमास के भी समाप्ति मान लिहल जाला।
 
सतुआन के बहुत तरह से बनावल जाला, सामान्य रूप से आज के दिन [[सतुआ|जौ के सत्तू]] गरीब असहाय के दान करे के प्रचलन बा। आज के दिन लोग स्नान पावन नदी गंगा में करे ला, पूजा आदि के बाद जौ के सत्तू, गुर, कच्चा आम के टिकोरा आदि गरीब असहाय के दान कइल जाला आ ईस्ट देवता, ब्रह्मबाबा आदि के चढ़ा के प्रसाद के रूप में ग्रहण कइल जाला ई काल बोधक पर्व संस्कृति के सचेतना, मानव जीवन के उल्लास आ सामाजिक प्रेम प्रदान करेला।
 
 
[[श्रेणी:हिंदू तिहुआर]]
 
{{हिंदू-आधार}}
 
आस्था और विश्वास का महापर्व मेष संक्रान्ति (सतुआन)
 
इसके एक दिन बाद जूड़ शीतल का त्योहार मनाया जाता है। इस दिन पेड़ में बासी जल डालने की भी परंपरा है। जुड़ शीतल का त्योहार बिहार में हर्षोलास के साथ मनाया जाता है। पर्व के एक दिन पूर्व मिट्टी के घड़े या शंख जल को ढंककर रखा जाता है, फिर जुड़ शीतल के दिन सुबह उठकर पूरे घर में जल का छींटा देते हैं। मान्यता है की बासी जल के छींटे से पूरा घर और आंगन शुद्ध हो जाता है।
 
[[श्रेणी:हिंदू तिहुआर]]
 
{{हिंदू-आधार}}
69,805

संपादन सभ