शिव

एगो हिंदू देवता, त्रिदेव में से एक, संहार के देवता
(शंकर से अनुप्रेषित)

शिव एगो प्रमुख हिंदू देवता हवें। हिंदू धर्म में शिव के बिष्णुब्रह्मा के साथे त्रिमूर्ति के रूप में पूजल जाला जबकि शैव मत में इनके सभसे बड़हन देवता आ साक्षात ईश्वर के रूप मानल जाला। त्रिदेव के रूप में इनके बिनास भा संहार के देवता भी मानल जाला जबकि ब्रम्हा के रचना आ बिष्णु के पालन के देवता मानल जाला।

शिव
शिव के मूर्ती के रूप में निरूपन
देवनागरीशिव
संबंधित बाड़ेब्रह्म (शैव मत), त्रिमूर्ति, देव
धामकैलाश परबत
मंत्रॐ नमः शिवाय
हथियारत्रिशूल
चीन्हाशिवलिंग
सवारीनंदी<्
तिहुआरशिवराति, सावन के महीना
Personal information
Consortसती, पार्वती[1]
संतानगणेशकार्तिकेय
क्षेत्रीय: अय्यपन (ऐय्यनार, शास्ता),

वैदिक साहित्य में इनके रूप रूद्र नाँव के देवता में देखल जाला हालाँकि, कुछ बिद्वान लोग शिव के पूजा वैदिक युग से पहिले से होखत माने ला। शैव मत के परभाव काश्मीर आ दक्खिन भारत में खासतौर से देखे के मिले ला। एकरे अलावा जहाँ-जहाँ शक्ति के उपासना के जोर बा ओह इलाका सभ में भी शिव के पूजा महत्व के चीज हवे।

भगवान गणेशकार्तिकेय जी के पिता जी आ माता पार्वती के पति बतावल जालें। पुराण सभ के जुग के, शिव से जुड़ल प्रमुख ग्रन्थ शिव पुराण हवे।

संदर्भ संपादन करीं

  1. David Kinsley 1988, p. 50, 103–104.