मुख्य मेनू खोलीं
हुक्का पियत आदमी
हुक्का पियत एगो अदमी

हुक्का एगो जुगति हवे जवना से तमाकू पियल जाला आ एह क्रिया में तमाकू भा कबो-कबो गाँजा के धुआँ पानी में से गुजरे ला। एह जुगति के खोज कुछ लोग के मोताबिक भारत में मुगल काल में भइल आ कुछ लोग एकरा के फारस के सफदवी काल के ईजाद बतावे ला।

अउरी अन्य तरह के धूम्रपान से होखे वाला नोकसान के अलावे, हुक्का से इन्फेक्शन के एक बेकती से दुसरे ले फइले के संका बढ़ जाले जब एकही हुक्का कई लोग पिए ला।

इहो देखल जायसंपादन