रसड़ा (अंग्रेजी: Rasra) भारत देश की उत्तर प्रदेश राज्य में बलियाँ जिला में एगो शहर बा। ई आपने नाँव की तहसील क मुख्यालय ह। इहाँ नाथ बाबा मंदिर देखे लायक धार्मिक अस्थान बा। इहाँ अनाज क मंडी आ अउरी सामन क बाजार ए इलाका की आर्थिक जीवन खातिर महत्वपूर्ण बा।

रसड़ा
Rasra
शहर
रसड़ा is located in Uttar Pradesh
रसड़ा
रसड़ा
उत्तर प्रदेश में लोकेशन
Coordinates: 25°51′N 83°51′E / 25.85°N 83.85°E / 25.85; 83.85निर्देशांक: 25°51′N 83°51′E / 25.85°N 83.85°E / 25.85; 83.85
देस भारत
राज्यउत्तर प्रदेश
जिलाबलियाँँ
Elevation
55 m (180 ft)
Population
 (2001)
 • Total29,263
भाषा
 • सरकारीहिंदी
 • लोकलभोजपुरी
Time zoneUTC+5:30 (भारतीय)
पिनकोड
221712
Vehicle registrationUP–60

यहां एक लखनेसर नामक जागीरदार रियासत अस्तित्व में था।‌ यहां के एक सेंगर राजपूत को अवध के नवाब ने इस इलाके का जागीरदार नियुक्त किया था। लखनेसर के सेंगर राजपूतो ने बनारस के स्वतंत्र होने के बाद दूबारा बनारस को अवध के नवाब के अधीन लाने के लिए नवाब की सेना में शामिल होकर सनातन संस्कृति के केन्द्र कहे जाने वाले काशी, बनारस शहर पर हमला करने का दुस्साहस किया था। लखनेसर के सेंगर राजपूत सामंत के खिलाफ काशी नरेश राजा बलवंत सिंह ने एक बड़ी सैन्य कार्रवाई करवाया था जिसमें सैकड़ों की संख्या में सेंगर राजपूत मारें गए एवं सैंकड़ों राजपूत महिलाओं को सती होना पड़ा। काशी नरेश राजा बलवंत सिंह ने बचें हुए सभी सेंगर राजपूतो पर दया करके उन्हें लगान मुक्त कर दिया था। रसड़ा इलाके के ज्यादातर मंदिर, मठ एवं समाधिया काशी नरेश [1]राजा बलवंत सिंह के द्वारा दान में दी गई जमीन पर बने हैं। काशी नरेश राजा बलवंत सिंह ने रसड़ा में मारें गए सैकड़ों सेंगर सैनिकों को श्रद्धांजलि देते हुए उनकी की याद में समाधियों एवं सती स्थान के निर्माण के लिए 50 एकड़ से ज्यादा जमीन दान में दे दिया था। इसी जमीन पर नाथ बाबाओं एवं सती स्थान का निर्माण हुआ था। सभी नाथ बाबा वास्तव में सेंगर राजपूत सैनिक थे जिन्होंने अवध के नवाब की सेना में सामिल होकर बनारस पर आक्रमण किया था। काशी नरेश राजा बलवंत सिंह इन्हें सबक सिखाने के लिए एक बड़ी सेना लेकर रसड़ा, बलिया आएं थे। रसड़ा के आसपास क इलाका बलियाँ जिला की अउरी इलाका की तरे प्राचीन काल में कोसल राज्य क हिस्सा रहे। कोसल राज्य की कमजोर भइला पर ए इलाका में भर जाति की लोगन के छोट-छोट प्रभाव क्षेत्र बनि गइलन स। एकरी बाद सेंगर राजपूत लोग ए इलाका में परभाव अस्थापित कइल। ए शहर के अस्थापना कब भइल ई मालुम नइखे। सन बयालिस की आंदोलन में रसड़ा संघर्ष क एगो बहुते महत्वपूर्ण केन्द्र रहे। ए आंदोलन में अगस्त 1942 ई. में बलियाँ जिला की अउरी जगहन की नियर रसड़ो में स्वतंत्रता के घोषणा हो गइल आ तहसील मुख्यालय पर तिरंगा लहर दिहल गइल।[2]

रसड़ा क लोकेशन 25° 51' उत्तरी अक्षांश आ 83° 51' पूरबी देशांतर बा आ समुद्र तल से ऊँचाई 54 मीटर बा।[3] जिला मुख्यालय बलियाँ से इहाँ क दूरी 33 किलोमीटर बा आ बनारस से वाया मऊ इहाँ के दूरी 142 किलोमीटर बा।[4] रसड़ा नगर पालिका की अन्दर लगभग 6 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र आवेला[5] प्राकृतिक भूगोल कि दृष्टि से ई शहर मध्य गंगा मैदान क हिस्सा हवे आ इहवाँ जलोढ़ निक्षेप के चट्टान मिलेला। आसपास दोमट आ बलुई दोमत माटी पावल जाला आ कहीं कहीं ऊसर मिलेला। ताल ए इलाका कि चारो ओर थोड़ी-थोड़ी दूरी पर पावल जाला। बसनही नदी रसड़ा की लगे से हो के बहेले जेवन आगे जा के गंगा जी में मिल जाले। जलवायु नम प्रकार के बा आ बसंत, गर्मी, बरखाऋतु, आ जाड़ा के चार गो मौसम होला। साल भर में औसत बरखा 100 सेंटीमीटर की आसपास होले।

प्राकृतिक रूप से पावल जाए वाला बन अब समाप्त हो गइल बाड़े। बड़ पेड़न में आम, महुआ, नीबि, बरगद, पीपर, पाकड़, गूलरि, इमिली, आ अर्जुन क पेड़ मिलेलें। नया वृक्षारोपण में ज्यादातर पेड़ सफ़ेदा, बिलायती बबुर, आ शिरिष के लगावल गइल बा।

जनसंख्या

संपादन करीं

रसड़ा क जनसंख्या 1971 में 14,042 रहे जवन 1991 में बढ़ के 23,865; आ 2001 में 29,238 आ 2011 में बढ़ के 31,765 हो गइल बा।[6]

देखे लायक अस्थान

संपादन करीं
  • नाथ बाबा मंदिर — रसड़ा की पच्छिम ओर लगभग सौ साल पुरान मंदिर बा। इहाँ एगो पोखरा बा जवना कि तीरे कुआर महीना की दशमी के दशहरा क मेला लागेला आ रावण जरावल जाला।
  • रोशन शाह दरगाह — रसड़ा की पच्छिम ओर नाथ बाबा की मंदिर से सटले एगो दरगाह बा जहाँ हर साल मोहर्रम की बाद बाबा क उर्स मनावल जाला।
  • लखनेसर डीह - रसड़ा तहसील में, शहर से कुछे दूरी पर एगो इतिहासी महत्व के जगह बाटे। लखनेसर डीह नाम के शंकर जी के शिवलिंग बा जेकरे बारे में मानल जाला की एकर स्थापना लक्क्षमन जी बनवास के समय कइले रहलें।[7] ई बहुत प्रसिद्ध मंदिर ह, एही मंदिर के लगे भगवान विष्णु क प्राचीन मंदिर बाटे जेह में अष्टधातु क मुर्ती बा आ ई पुरातत्व बिभाग के अधीन बा।

अउरी पढल जाय

संपादन करीं
  1. -, Dr. Mamta Rani; -, Ms. Ritu Rani (2024-04-01). "भारत में महिला सशक्तिकरण: प्राचीन काल से आधुनिक काल". International Journal For Multidisciplinary Research. 6 (2). doi:10.36948/ijfmr.2024.v06i02.16072. ISSN 2582-2160.{{cite journal}}: CS1 maint: numeric names: authors list (link)
  2. बलिया गजेटियर-1979, गवर्नमेंट प्रेस, इलाहबाद, pp 240
  3. "Maps, Weather, and Airports for Rasra, India". Fallingrain.com. Retrieved 2017-10-30.
  4. पूर्वी उत्तरप्रदेश पर्यटन | http://www.easternuptourism.com/Rasra.jsp
  5. "Rasra (Ballia, Uttar Pradesh, India) - Population Statistics, Charts, Map, Location, Weather and Web Information". Citypopulation.de. Retrieved 2017-10-30.
  6. पूर्वी उत्तरप्रदेश पर्यटन | जनसंख्या, citypopulation.de से लिहल आँकड़ा।
  7. बालियाँ जिला के इतिहास, जिला के ऑफिशियल वेबसाइट पर।