संसाधन (resource) कौनों अइसन चीज ह जेकर इस्तेमाल मनुष्य आपन कौनों जरूरत पूरा करे खातिर क सके, आ ओह चीज के जरूरी होखे के महत्व के बूझत होखे। मने की, धरती पर पावल जाए वाला कौनों भी अइसन चीज संसाधन हवे जेकर लोगन के जरूरत पड़े ला आ लोग ओकर कीमत बूझे लें।[1] ई संसाधन कौनों चीज, मदद भा सपोर्ट के सप्लाई के स्रोत होखे लें जिनहन के जरूरत पड़े पर इस्तेमाल कइल जा सके ला।[2][3] प्राकृतिक संसाधन में बहुत ब्यापक पैमाना पर प्रकृति में मौजूद सगरी अइसन चीज आ जाला जेकर इस्तेमाल मनुष्य अपना लाभ खातिर क सकत बा।

वास्तव में संसाधन के उपयोग, ओकरे उपयोग करे के तरीका के जानकारी के बाद होला, एही कारण भूगोलवेत्ता जिम्मरमैन के कहनाम रहल की "संसाधन होलें ना, बलुक बन जालें"।[4]

संदर्भसंपादन

  1. Society, National Geographic. "National Geography Standard 16". nationalgeographic.org (English में). पहुँचतिथी 11 दिसंबर 2021.
  2. "Resource | Define Resource at". Dictionary.com. पहुँचतिथी 2017-08-30.
  3. "Resource | Definition of Resource by Merriam-Webster". Merriam-webster.com. पहुँचतिथी 2017-08-30.
  4. De Gregori, Thomas R. (1987). "Resources Are Not; They Become: An Institutional Theory". Journal of Economic Issues. 21 (3): 1241–1263. ISSN 0021-3624.