नदी के धारा बदलाव या एवल्शन (अंगरेजी: Avulsion) एगो भूआकृतिक आ भूबैज्ञानिक घटना हवे जेवना में नदी तेजी से आपन पुरान बहाव के धारा छोड़ के नई धारा के रूप में बहे लागे ले। ई अक्सर तब होला जब पुरान चैनल के ढाल एतना कम होखे की नदी में मौजूद अवसाद के एकट्ठा भइला से भर जाय आ नदी के दूसर ढाल वाला रास्ता पर बहे के पड़े।[1]

मिसिसिपी नदी के पंजाकर डेल्टा एवल्शन के परिणाम हवे

नदी धारा के बदलाव के घटना बहुतायत में देखल जाले जब नदी अपने डेल्टा के हिस्सा में बहेले। डेल्टा वाला हिस्सा में नदी के ढाल बहुत कम हो जाला आ जब अवसाद जमा होला तब अक्सर नदी पुरान बहाव के मार्ग छोड़ के नया रास्ता से बहे लागे ले। एकर के डेल्टा बदलाव या डेल्टा स्विचिंग भी कहल जाला।[2]

नदी डेल्टा के एगो प्रकार पंजाकर डेल्टा एही तरे बने ला जब नदी एगो रास्ता पर बहत आ अवसाद जमा करत समुन्द्र में दूर ले पहुँच जाले आ बीच में ई रास्ता छोड़ के दूसर रास्ता पर इहे काम शुरू हो जाला तब अइसन कई बेर में हो के नदी के डेल्टा के आकार चिरई के पंजा नियर हो जाला।

संदर्भसंपादन

  1. Slingerland, Rudy; Smith, Norman D. (1998). "Necessary conditions for a meandering-river avulsion". Geology. 26 (5): 435–438. Bibcode:1998Geo....26..435S. doi:10.1130/0091-7613(1998)026<0435:NCFAMR>2.3.CO;2.
  2. Marshak, Stephen (2001), Earth: Portrait of a Planet, New York: W.W. Norton & Company, ISBN 0-393-97423-5 pp. 528–9